प्रत्नकीर्तिमपावृणु = कर प्रयत्न; कि पुरखों की थाती, पहुंचे उनकी सन्ततियों तक.

प्रत्नकीर्ति : षाण्मासिक समीक्षित शोध-पत्रिका, ISSN 2322-0694


भाग-1 अंक-4, October-December 2014
आत्मनिवेदन
लेख
  1. Bhagavad-Gita in Urdu
Shaikh Abdul Ghani
  1. तारा कवि के रहीम’-प्रशंसा परक कतिपय अज्ञात छन्द
प्रताप कुमार मिश्र
विविधा
  1. संस्कृत की एक पुरानी ग़ज़ल
सम्पादक
समकालीन पत्रिकाएं : शोध-सन्दर्भ
कृति-परिचय
  1. An Introduction to Sanskrit a book in Persian to learn Sanskrit by famous Iranian Indologist Dr Hassan Rezai Baghbidi. संस्कृत-शिक्षण की फ़ारसी पुस्तक 'मुक़द्दमात-ए-ज़बान-ए-संस्कृत
राजेश सरकार
प्रत्नकीर्ति प्राच्य शोध संस्थान
आराजी-469, सत्यम् नगर, भगवानपुर, बी.एच.यू., वाराणसी, उ. प्र., भारत, पिन-221005