प्रत्नकीर्तिमपावृणु = Force the shade of ancient glory for generations.

Pratnakirti (On-line Refereed Quarterly Journal). ISSN 2322-0694


Volume-1, Issue-2, April-June, 2014
आत्मनिवेदन
लेख
  1. ‘अवध’-विलास ग्रन्थ और उसकी परम्परा
उदय शंकर दुबे
  1. ‘सुगमा’ : वृत्तरत्नाकर की एक दुर्लभ संस्कृत-टीका
राजीव कुमार ‘त्रिगर्ती’
  1. भारद्वाज-कृत विमानशास्त्र–परक दुर्लभ ग्रन्थ - ‘रत्नप्रदीपिका’
उमेश कुमार सिंह
  1. पुराणेषु शकुनशास्त्रपरिचयः
य.लक्ष्मी श्रीकान्तः
  1. अच्युतराय मोदक कृत ‘नीतिशतकम्’ की अज्ञात एवं दुर्लभ पाण्डुलिपि
प्रताप कुमार मिश्र
विविधा
  1. मधुसूदन-कवि और उनका अज्ञात तथा दुर्लभ संस्कृत-महाकाव्य - ‘संगीतगोविन्दम्’
प्रताप कुमार मिश्र
समकालीन पत्रिकाएं : शोध-सन्दर्भ
कृति-परिचय
  1. रहीम-कृत ‘गंगाष्टकम्’ तथा घटखर्पर-कृत ‘घटखर्परकाव्यम्’ का बरवै-छन्द में हिन्दी-अनुवाद
सम्पादक
अखिल भारतीय मुस्लिम-संस्कृत संरक्षण एवं प्राच्य शोध संस्थान
Ara Ji No.-469, Satyam Nagar Colony, Bhagawanpur, B.H.U., Varanasi, U.P. Pin-221005
s